Wednesday, October 27, 2021
HomeSasaram3. Historyसासाराम आरा और डेहरी रोहतास छोटी लाईन कि सुनहरी यादें , आरंभ...

सासाराम आरा और डेहरी रोहतास छोटी लाईन कि सुनहरी यादें , आरंभ से अंत तक | Ara sasaram Light Railway , Dehri Rohtas Light Rail | Part 1

भारतीय रेलवे, जिसकी शुरुआत 1853 में मामूली थी, तब से राष्ट्र का अभिन्न अंग रहा है। ब्रिटिश सरकार ने रेल और सड़क परिवहन प्रणाली के विकास पर पर्याप्त ध्यान दिया। आर्थिक, राजनीतिक और सैन्य मोर्चे के लिए रेलवे महत्वपूर्ण है । नई रेलवे लाइनों ने भारत के विभिन्न हिस्सों को एक साथ बांध दिया। यह लोगों और महलों को पहले से कहीं अधिक करीबी बना दिया, जो पहले कभी नहीं हुआ । नई रेल लाइनों ने दिलों के दूरी को कम किया ।

Table of Contents

आरा सासाराम और डेहरी रोहतास रेलवे | Ara sasaram Light Railway , Dehri Rohtas Light Rail

Dehri rohtas Light Railway
डालमियानगर में खड़ी “डेहरी रोहतास छोटी लाईन” कि रेलगाड़ी । कुछ वर्षो पहले सरकार इसे पंडित दिन दयाल उपाध्याय जंक्शन (मुग़लसराय ) पर सजाने के लिए ले गई  | Pc : LG Marshal

20वीं सदी में बिहार के पुराने शाहाबाद जिले में दो छोटे रेलवे नेटवर्कों की शुरुआत हुई थी। एक है आरा-सासाराम लाइट रेलवे और दूसरी है डेहरी-रोहतास लाइट रेलवे। डेहरी रोहतास रेलवे के बारे में हम लोग कभी बाद में चर्चा करेंगे , फिलहाल सासाराम और आरा के बीच दौड़नेवाली आरा सासाराम लाईट रेलवे के ऊपर प्रकाश डालते हैं ।

आरा सासाराम छोटी लाईन

Ara Sasaram Light Railway 3
सासाराम स्टेशन पर खड़ी आरा सासाराम छोटी लाईन कि रेलगाड़ी  | Pc : LG Marshal

आरा-सासाराम लाइट रेलवे (एएसएलआर) दक्षिण बिहार के यात्रियों के लिए एक लोकप्रिय नैरो गेज रेल नेटवर्क था। 1914 में शुरू हुआ जो ईस्ट इंडियन रेलवे की दो लाइन को जोड़ता है । आरा-सासाराम लाइट रेलवे ने 1978 में रेल पर अपनी अंतिम यात्रा पूरी की। आरा-सासाराम लाइट रेलवे ने दक्षिण बिहार के लोगों को 64 साल की निरंतर सेवा दी । एक समय में यह रेल नेटवर्क भोजपुरी जीवन शैली का हिस्सा था।

कई गांवों ने इस रेल पर गाने भी बनाए थे। यह निजी स्वामित्व वाला रेल नेटवर्क था। मार्टिन और बर्न द्वारा संचालित, आरा-सासाराम लाइट रेलवे ने लोगों को छह दशक तक सेवा दी। 1950 से 1970 इस रेल नेटवर्क के लिए गौरवशाली समय था।

आवश्यकता अविष्कार की जननी होती है

हर लंबी यात्रा की शुरुआत छोटे कदमों से होती है। भारतीय संदर्भ में नैरो गेज का अर्थ है 1 मीटर से छोटा कोई भी गेज। दो ऐसे गेज जो अब बचे हैं वे हैं 2′ (610 मिमी) और 2’6″ (762 मिमी) गेज। भारत में पहली 2 फीट 6 इंच (762 मिमी) रेलवे का निर्माण 1863 में गायकवाड़ के बड़ौदा राज्य रेलवे में किया गया था। 1897 में बरसी लाइट रेलवे खोला गया।

बिहार का शाहाबाद जिला, जिसका मुख्यालय आरा में था, पश्चिमी बिहार में एक भोजपुरी भाषी जिला था, भारत के उत्तर प्रदेश के साथ बिहार की पश्चिमी सीमा बना रहा था। जिले को अब भोजपुर, रोहतास, कैमूर और बक्सर सहित चार जिलों में विभाजित किया गया है ।

शाहाबाद जिला बिहार का धान उत्पादक क्षेत्र था, इसलिए राज्य में इसका आर्थिक महत्व था। शाहाबाद राज्य के अन्य हिस्सों में चावल का थोक निर्यातक था। यद्यपि परिवहन के विभिन्न साधन व्यापार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, रेलवे माल के प्रमुख वाहक हैं क्योंकि उनकी थोक परिवहन की क्षमता है।

भोजपुर और रोहतास में पहले से था रेल नेटवर्क 

भोजपुर जिले में आरा, बिहिया, बक्सर और डुमरांव जैसे व्यापार केंद्र रेल नेटवर्क पर पहले से थें । रोहतास जिले में मोहनिया, कुदरा, सासाराम और डेहरी जैसे शहर/बाजार रेल नेटवर्क पर पहेल से थें ।

Sasaram Ara Light Rail
पिरो स्टेशन पर सन् 1946 ई में खड़ी आरा सासाराम छोटी लाईन कि रेलगाड़ी  | Pc : LG Marshal

 

इसलिए ब्रिटिश सरकार ने रोहतास जिला के गढ़ नोखा, बिक्रमगंज, हसन बाजार, पिरो जैसे बाजारों को रेल नेटवर्क से जोड़ने का विचार किया । आरा और सासाराम के बीच की दूरी 100 किलोमीटर है।

आरा और सासाराम में पहले से बड़े रेलवे स्टेशन थें 

आरा मुगलसराय-पटना बोराड गेज लाइन पर है और सासाराम ग्रैंड कॉर्ड (मुगलसराय हावड़ा) लाइन पर एक रेलवे स्टेशन है। चावल और यात्रियों जैसे सामानों के परिवहन के लिए भी आरा और सासाराम को जोड़ने की आवश्यकता थी ।

आरा सासाराम लाईट रेल के लिए चावल का व्यापार था मुख्य कारण 

आरा सासाराम छोटी लाईन 2
नोखा स्टेशन पर सन् 1943 ई में खड़ी आरा सासाराम छोटी लाईन कि रेलगाड़ी  | Pc : LG Marshal

चावल के व्यापार के लिए गढ़ नोखा, बिक्रमगंज, हसन बाजार और पीरो जैसे बाजार महत्वपूर्ण हैं। इसलिए 20 वीं सदी की शुरुआत में आरा और सासाराम के बीच रेलवे लाइन की जरूरत सरकारी अधिकारियों द्वारा देखी गई थी।

मार्टिन्स लाइट रेलवे के भारत में कई रेल नेटवर्क थें 

मार्टिन्स लाइट रेलवे भारत में रेलवे का संचालन करने वाली एक निजी कंपनी थी। कंपनी पहले से ही संयुक्त प्रांत और बंगाल में नैरो गेज रेल नेटवर्क का संचालन कर रही थी। इसलिए उन्हें आरा और सासाराम के बीच रेल नेटवर्क बनाने और संचालित करने का अवसर मिला।

निर्माण कार्य ब्योरा

रेल नेटवर्क के उद्देश्य के लिए सरकार द्वारा 1901 ई में भूमि का अधिग्रहण किया गया था । 15 अक्टूबर, 1909 को एक अग्रीमेंट / समझौता के द्वारा तत्कालीन जिला शाहाबाद डिस्ट्रिक बोर्ड और मार्टिन एंड कंपनी लिमिटेड के बीच, आरा सासाराम लाईट रेल के लिए और लाइट रेलवे कंपनी लिमिटेड के बिहाफ में (एवज में ), एक कम्पनी बनाने का निर्णय हुआ । इस कंपनी का निर्माण आरा और सासाराम के बीच ट्रामवे या लाइट रेलवे के निर्माण और निर्माण के लिए किया जाना था।

आरा सासाराम लाइट रेलवे कंपनी लिमिटेड , बन कर तैयार

19 अक्टूबर, 1909 को, आरा सासाराम लाइट रेलवे कंपनी लिमिटेड को कंपनी अधिनियम, 1866 के तहत एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी के रूप में शामिल किया गया था, जिसका पंजीकृत कार्यालय नंबर 12, मिशन रोड, कोलकाता में है ।

2010 में कंपनी का मूल्य (आरा सासाराम लाइट रेलवे लिमिटेड , मार्टिन एंड कंपनी की एक सहायक कंपनी) 22,00,000 था। आरा सासाराम लाइट रेलवे लिमिटेड ने प्रत्येक 100 रुपये के शेयर जारी किए। इसे 100 रुपये के 22,000 शेयरों में बांटा गया है। कंपनी ने अपने कुछ शेयर आम जनता को भी बेचे।

Ara Sasaram Light Rail
आरा स्टेशन पर सन् 1970 ई में खड़ी आरा सासाराम छोटी लाईन कि रेलगाड़ी  | Pc : LG Marshal

17 जुलाई, 1910 को, शाहाबाद के तत्कालीन जिला बोर्ड और मार्टेन एंड कंपनी लिमिटेड, कोलकाता के बीच ट्रामवे या लाइट रेलवे के निर्माण के लिए आरा-सासाराम लाइट रेलवे कंपनी लिमिटेड के प्रमोटर के रूप में एक समझौता किया गया था। आरा से सासाराम तक भाप की शक्ति से काम किया जाना है।

लेकिन आरा और सासाराम के बीच की सड़क जिला बोर्ड के अधिकार क्षेत्र में आती है। 15 अक्टूबर 1909 के अनुबंध के निबंधन एवं शर्तों पर कंपनी आरा सासाराम लाइट रेलवे कंपनी लिमिटेड को रेल नेटवर्क के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण हेतु खोला गया था।

आरा सासाराम लाइट रेल का ज़मीन अधिग्रहण

आरा सासाराम छोटी लाईन 1
Map Of Ara Sasaram Light Railway ( Provided to “Sasaram Ki Galiyan” on special demand from indian railway )

रेल मार्ग के उद्देश्य से सासाराम के निकट सलेमपुर, कुराईच ( गौरक्षणी ) , शरीफाबाद, रसूलपुर और महद्दिगंज गांवों की भूमि सहित कई भूमियों का अधिग्रहण किया गया था।

इसके बाद भूमि अधिग्रहण की योजना दिनांक 28.9.1910 के राजपत्र/गजेटियर में प्रकाशित हुई । 19 अगस्त, 1936 को, शाहाबाद के जिला बोर्ड और आरा सासाराम लाइट रेलवे कंपनी लिमिटेड के बीच एक पूरक समझौता किया गया था,

जिसके तहत पार्टियों ने लाभ एवं हानी की गणना की विधि के संबंध में मूल समझौते में एक खंड में संशोधन करने पर सहमति व्यक्त की थी। आरा-सासाराम लाइट रेलवे (बिहार) और बारासेट-बशीरहाट लाइट रेलवे ऑफ बंगाल (मार्टिन एंड कंपनी दोनों) की शुरुआत 1914 में हुई थी ।

Ara Sasaram Choti Line
बिक्रमगंज स्टेशन पर सन् 1948 ई में खड़ी आरा सासाराम छोटी लाईन कि रेलगाड़ी  | Pc : LG Marshal

नोट : इस आर्टिकल पर पब्लिक रिस्पॉस अच्छा रहेगा तो हर शनिवार को हम इसका अगला पार्ट भी लेकर आएंगे । सासाराम आरा छोटी लाईन और डेहरी रोहतास छोटी लाईन पर सम्पूर्ण जानकारियां इंटरनेट पर पहली बार 6 से 7 पार्टो और 18 से 20 हजार शब्दों में “सासाराम की गलियां” उपलब्ध कराएगा । हमें सिर्फ आपका सपोर्ट और प्यार चाहिए ।

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

3e62a10f23102f974668834f92e4ef01?s=117&d=mm&r=g
Sasaram Ki Galiyanhttps://www.sasaramkigaliyan.com
Sasaram Ki Galiyan is a Sasaram dedicated Digital Media Portal which brings you the latest updates from across Sasaram,Bihar and India.
- Advertisment -spot_img

Most Popular

error: Content is protected !!