Thursday, June 17, 2021
HomeTourismBhojpurशाहाबाद केआस्था का केंद्र मां आरण्य देवी मंदिर में युधिष्ठिर ने रखा...

शाहाबाद केआस्था का केंद्र मां आरण्य देवी मंदिर में युधिष्ठिर ने रखा था प्रतिमा | आरा शहर

भोजपुर के जिला मुख्यालय का नामकरण जिस देवी के नाम पर हुआ है वो मां आरण्य देवी ही हैं । मां आरण्य देवी प्राचीन काल से इलाके के लोगों की आराध्य हैं । मां आरण्य देवी मंदिर में विराजमान मां आरण्य , नगर की अधिष्ठात्री देवी मानी जाती है।

प्राचीन काल से पूजा ,लेकिन मन्दिर बाद में बना

मां आरण्य देवी मंदिर तो बहुत पुराना नहीं है लेकिन सनातन धर्मग्रंथों में यहां प्राचीन काल से मां आरण्य देवी पूजा का वर्णन मिलता है । संवत् 2005 में स्थापित हुआ था मंदिर ।

मां आरण्य देवी प्राचीन काल से पुजी जाति हैं

कई किदवंतीयां मशहूर हैं, इनका जुड़ाव महाभारत काल से है । कई जगहों पर भगवान राम के जनकपुर गमन के प्रसंग से भी जोड़ा जाता है ।

Keerana
**Advertisement

इतिहास के अनुसार इस मंदिर के चारो ओर पहले जंगल था। पांडव वनवास के क्रम में आरा में भी ठहरे थे। पांडवों ने यहां आदिशक्ति की पूजा-अर्चना की।

PicsArt 09 01 11.52.50 min
**Advertisement

मां ने युधिष्ठिर को आरण्य देवी की प्रतिमा स्थापित करने का स्वप्न में संकेत दिया था । जिसके बाद धर्मराज युधिष्ठिर ने यहां मां आरण्य देवी की प्रतिमा स्थापित किया था ।

वास्तुकला

संवत् 2005 में स्थापित यह मंदिर संगमरमर टाइल्स द्वारा निर्मित है । मंदिर का मुख्य द्वार पूरब दिशा की ओर है । मुख्य द्वार के ठीक सामने मां की भव्य प्रतिमाएं हैं।

द्वापर युग से संबंध

द्वापर युग में इस स्थान पर राजा म्यूरध्वज राज किया करते थें । इन्हीं के शासन काल में भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन के साथ यहां पहुंचे थे। उन्होंने राजा के दान की परीक्षा भी लिया ।

contact for advertisement

इस मंदिर में छोटी प्रतिमा को महालक्ष्मी और बड़ी प्रतिमा को सरस्वती का रूप माना जाता है।

नवरात्र में उमड़ता है श्रद्धालुओं का हुजूम

Fotor 160080459840532 compress60
Navratra Crowd in Aranya Devi Temple Arrah

शारदीय व चैती नवरात्र पर विशेष पूजा अर्चना को भक्तगण पहुंचते हैं । अन्य प्रदेशों से भी काफी संख्या में भक्त लोग पूजा अर्चना को यहां आते हैं। उत्तर प्रदेश के श्रद्धालुओं कि संख्या अच्छी खासी रहती है ।

SAVE 20200923 130531 compress38
**Adverisement

शारदीय नवरात्र की सप्तमी की अहले सुबह यहां विशेष आरती की जाती है और विशेष प्रसाद की व्यवस्था रहती है । मंदिर की सजावट और मां के भव्य शृंगार के लिए कोलकाता से विशेष माली बुलाए आते हैं। विशेष फूलों से पूरे मंदिर की सजावट की जाती है।

मंदिर कैसे पहुंचे ?

आरण्य देवी का मंदिर स्थानीय रेलवे स्टेशन से उत्तर तथा शीश महल चौक से लगभग 2 सौ मीटर उत्तर-पूर्व छोर पर स्थित है । यहां आवागमन के साधन/ट्रांसपोर्ट सुलभ उपलब्ध रहते हैं । आपको बताते चलें कि मंदिर के आस-पास पूजा सामग्रियों की दुकानें सजी रहती है ।

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

3e62a10f23102f974668834f92e4ef01?s=117&d=mm&r=g
Sasaram Ki Galiyanhttps://www.sasaramkigaliyan.com
Sasaram Ki Galiyan is a Sasaram dedicated Digital Media Portal which brings you the latest updates from across Sasaram,Bihar and India.
- Advertisment -spot_img

Most Popular

error: Content is protected !!