Thursday, July 25, 2024
HomeRohtasSasaram divisionवास्‍तुकला देखने के शौकीन हैं तो सासाराम का 'सूखा रौजा' घूम आईए...

वास्‍तुकला देखने के शौकीन हैं तो सासाराम का ‘सूखा रौजा’ घूम आईए | Hasan Shah Suri Tomb

वास्‍तुकला का अद्भुत संगम देखना हो तो सासाराम का ‘ हसन शाह सुरी का मक़बरा’ अर्थात ‘सूखा रौजा’ एक बेहतरीन ऑप्‍शन हो सकता है। यहां का वास्‍तुशिल्‍प और मकबरे के अंदर बनाई गई वास्‍तुकला ,वास्‍तुप्रेमियों को खूब लुभाती है । अगर आपको भी किसी ऐसी ही जगह की तलाश है तो इस वीकेंड्स का प्‍लान कर सकते हैं । साथ ही इस शानदार जगह की यादगार ट्रिप को अपनी ट्रैवल मेमोरी का हिस्‍सा बना सकते हैं ।

हसन शाह मक़बरा
हसन शाह मक़बरा | Hasan Shah Suri Tomb |तस्वीर : सैयद ख़्वाजा

हसन शाह सुरी का मकबरा (Hasan Shah Suri Tomb ) बिहार के सासाराम शहर में स्थित है । यह मकबरा इंडो अफगान वास्‍तुकला का बेजोड़ नमूना है । इसे स्थानीय लोग सूखा रौजा भी कहते हैं, मुख्य रूप से यह इसी नाम से मशहूर है ।

कौन था हसन शाह सुरी ?

हसन शाह सुरी अफगानिस्तान से आए हुए एक अफगान पश्तून ( पठान) थें । दरसल, हसन शाह के पिता इब्राहिम शाह सुरी अफगानिस्तान से भारत के पंजाब हरियाणा राज्य में आए थें और वह घोड़ा का व्यापार करते थे । इसमें इन्हे बहुत सफलता नहीं मिली , इसलिए इब्राहिम और हसन शाह सुरी दोनों सेना में शामिल हो गए और पंजाब के बजवरा में बस गए ।

शिकंदर लोधी के समय हसन शाह सुरी अपने बॉस /अधिकारी / मालिक जमाल खान के साथ जौनपुर आए । यहीं पर उन्हें सासाराम का जागीरदार बना दिया गया ।

सूखा रौज़ा सासाराम
सूखा रौज़ा सासाराम

हसन शाह सुरी की 4 बिबियां थी । पहली बीवी से जन्मा फरीद खान जो कि बड़ा बेटा था , आगे चल कर शेरशाह सूरी के नाम से मशहूर हुआ और इसने उत्तर भारत पर हुकूमत की । इसका कार्यकाल उत्तर भारत के शानदार कार्यकालों में गिना जाता है । भारत का वो बादशाह , जिसके डर से हुमायूँ 15 साल बाहर रहा हिंदुस्तान से : Click To Read

किसने बनवाया था सूखा रौजा ? 

सूखा रौजा ,सासाराम
सूखा रौजा ,सासाराम | Sukha Rauza,Sasaram | तस्वीर : गार्गी मनीष

बादशाह शेरशाह सुरी ने अपने पिता हसन शाह सुरी के लिए सूखा रौजा अर्थात हसन शाह सुरी का मकबरा ( Hasan Shah Suri Tomb ) का निर्माण करवाया था । इस मकबरा का मुख्य आर्किटेक्ट वास्तुकार मीर मुहम्मद अलीवाल खान था , आपको बताते चलें कि बाद में इसी अलावल खान ने ही विश्व विख्यात शेरशाह सूरी मकबरा को भी डिजाइन किया था ।

शेरों के शेर शेरशाह सुरी का मकबरा घूमने से पहले यह जान लिजिए : CLICK**

इस मक़बरा के कुछ हिस्सों को हसन शाह सुरी का पोता ( यानी शेरशाह सूरी का पुत्र ) बादशाह इस्लाम शाह सुरी अर्थात सलीम शाह सुरी ने भी बनवाया था ।  इसलिए इतिहासकारों द्वारा मकबरे का निर्माण 1535 में शुरू हुआ और 1545 में पूर्ण हुआ माना गया है । 

सासाराम के इस्लाम शाह सुरी ने ग्वालियर से चलाया उत्तर भारत का सल्तनत, शेरशाह सूरी का वंश आगे बढ़ाया : Click Here 

हसन शाह सुरी मकबरा का बनावट

लाल बलुआ पत्थर का यह मकबरा एक वर्गाकार पत्थर के केंद्र में खड़ा है जिसके गुंबदनुमा कियोस्क, पत्थर के किनारों और इसके प्रत्येक कोने पर छतरियों के साथ एक चौकोर पत्थर की चौखट पर एक कृत्रिम झील है, जो चौड़ी तरफ से मुख्य भूमि से जुड़ी हुई है ।

Sukha Rauza Sasaram
हसन शाह सुरी का मकबरा | Tomb of hasan shah | pc : ashish kaushik

मुख्य मकबरे में एक बड़ा अष्टकोणीय मकबरा कक्ष है जो चारों तरफ चौड़े बरामदे से घिरा हुआ है। आठ पक्षों में से प्रत्येक पर, बरामदा तीन धनुषाकार उद्घाटन और इसके ऊपर तीन संबंधित गुंबदों के साथ प्रदान किया जाता है। मुख्य मकबरा कक्ष बरामदे की गुंबददार छतों की तुलना में ऊंचा है ।

भारतीय पुरातत्व विभाग के अधीन है सूखा रौजा

Hasan Shah Suri Tomb sasaram Rohtas
Hasan Shah Suri Tomb sasaram Rohtas

हसन शाह सूरी का मकबरा पर्यटकों और स्थानीय लोगों के बीच बेहद लोकप्रिय इमारत है । वर्तमान में यह मकबरा भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधीन है और यह भारत सरकार की संपत्ति है ।

  • WhatsApp Image 2021 04 16 at 8.07.07 PM
    Advertisement**
  • Royal Crockery Sasaram
    Advertisement**
  • WhatsApp Image 2021 04 12 at 11.39.29 PM
    Advertisement**
  • WhatsApp Image 2021 03 06 at 10.10.52 PM
    Advertisement**
  • Advertisement**
    Advertisement**
  • swadeshi Restaurant add
    Advertisement**
  • daksha
    **Advertisement
  • banner

मुख्य इमारत बंद रहता है, लेकिन बाकी सब फ़्री में घूमिए

सरकारी और प्रशासनिक उदासीनता का शिकार सूखा रौजा का मुख्य इमारत जिसके अंदर कब्र हैं , प्रायः आम नागरिकों और पर्यटकों के लिए बंद रहता है ।

Hasan Shah Suri Tomb sasaram
हसन शाह मक़बरा | Hasan Shah Suri Tomb |

हालांकि , मुख्य इमारत को छोड़कर इसका कैंपस घुमा जा सकता है और बाहर से मकबरा का दीदार किया का सकता है । घूमने के लिए टिकट सिस्टम की व्यवस्था नहीं है,मतलब यहां घूमना फ्री है । मुख्य इमारत खास मौकों पर खोला जाता है ।

हसन शाह सुरी की बावली

Hasan Shah Suri Bawali
हसन शाह सुरी के अंदर बावली | तस्वीर अल्तमश अहमद

हसन शाह सुरी के चारदीवारी के अंदर एक छोटी सी बावली भी मौजूद है । हाता के अंदर से ही इसका प्रवेश द्वार है । मुख्य रूप से नमाज़ से पहले हाथ ढोने के रश्म के लिए इस बावली का उपयोग किया जाता था ।

शाही मस्जिद

हसन शाह सूरी मकबरा के अंदर शाही मस्जिद

सूखा रौजा के चारदीवारी में एक पुरानी मस्जिद भी स्थित है । आस पास के लोग इस मस्जिद को अभी भी उपयोग करते हैं और यह खुला रहता है । यह मस्जिद भी प्राचीन है ।

कब और कैसे पहुंचे हसन शाह सुरी का मक़बरा घूमने

Hasan Shah Suri Tomb sasaram Rohtas Bihar
हसन शाह सूरी के मकबरा कि ओर जाने वाला रास्ता

रोहतास जिला मुख्यालय सासाराम रेल नेटवर्क से वेल कनेक्टेड है । आस पास के राज्यों से बस सेवा भी उपलब्ध रहती है । आप सासाराम पहुंच कर ई रिक्शा या ऑटो के माध्यम से सूखा रौजा पहुंच सकते हैं । सूखा रौजा घूमने का कोई खास मौसम नहीं है, आप साल के किसी भी मौसम और महीना में यहां घूमने आ सकते हैं ।

Tomb of Hasan Shah Suri sasaram
हसन शाह सुरी मक़बरा | Tomb of Hasan Shah Suri | pc : gargi manish , Ashish Kaushik

हसन शाह सुरी का मकबरा सासाराम के शेर मुहल्ले में स्थित है । यह शेरशाह सूरी मकबरा ( पानी रौजा) के एकदम नजदीक है ।

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

Sasaram Ki Galiyan
Sasaram Ki Galiyanhttps://www.sasaramkigaliyan.com
Sasaram Ki Galiyan is a Sasaram dedicated Digital Media Portal which brings you the latest updates from across Sasaram,Bihar and India.
- Advertisment -spot_img

Most Popular

error: Content is protected !!