Tuesday, June 18, 2024
HomeSasaram6. issuesनो इंट्री सिर्फ कागजों पर, दिन भर शहर में घुसते हैं ट्रक,...

नो इंट्री सिर्फ कागजों पर, दिन भर शहर में घुसते हैं ट्रक, पुलिस कहीं नहीं दिखी | Trucks encroachment in no entry

शहर के नेताओं और अधिकारियों ने कभी भी प्लानिंग और शहर के फैलाव पर ध्यान नहीं दिया , जिसके कारण यहां के लोगों को दैनिक कार्य के लिए जीटी रोड के अलावा अन्य कोई वैकल्पिक मार्ग उपलब्ध नहीं है । सरकारी आदेश को रौंद कर दिन भर सासाराम शहर में ट्रक दौड़ रहे हैं । ज्यादातर ट्रक धर्मशाला रोड , पोस्ट ऑफिस चौराहा होते हुए तकिया की ओर जाते हैं । कई बार सासाराम शहर में अनियंत्रित ट्रकों ने रोड किनारे बैठे ठेला खोमचा वालों को भी अपने चपेट में ले लिया है । गौरक्षणी ओवर ब्रिज के नीचे की घटना कोई कैसे भुल सकता है , जब एक डंफर ने कई लोगों को एक ही बार में कुचल दिया था ।

जिला मुख्यालय सासाराम में ट्रक व अन्य मालवाहक बड़े वाहनों की इंट्री के लिए जिला प्रशासन के आदेश पर पर नियम बने हैं। रात 8 बजे के बाद ही ट्रकों को शहर में प्रवेश करना है ।

दिन के समय नो एंट्री में ट्रको की एंट्री
दिन के समय नो एंट्री में ट्रको की एंट्री

सरकारी आदेश को रौंद कर दिन भर सासाराम शहर में ट्रक दौड़ रहे हैं । ज्यादातर ट्रक धर्मशाला रोड , पोस्ट ऑफिस चौराहा होते हुए तकिया की ओर जाते हैं ।

शाम को लगता है जाम

नो एंट्री में ट्रकों की इंट्री से सड़क जाम की तस्वीर
नो एंट्री में ट्रकों की इंट्री से सड़क जाम की तस्वीर

शाम 5 बजे के बाद मुख्य शहर में सैकड़ों की संख्या में ट्रक आते हैं । एक बार में 5-10 ट्रक लाईन लगाकर चलते हैं । इसमें कई हेवी लोडेड ट्रक होते हैं तो कई खाली । जैसे जैसे ये ट्रक सड़को पर निकलते है, इनके पीछे जाम लगता चला जाता है । पोस्टऑफिस और धर्मशाला रोड मोड़ के पास स्थित भयावह रहती है ।

तेज रफ्तार

  • WhatsApp Image 2021 04 16 at 8.07.07 PM
    Advertisement**
  • Royal Crockery Sasaram
    Advertisement**
  • WhatsApp Image 2021 04 12 at 11.39.29 PM
    Advertisement**
  • WhatsApp Image 2021 03 06 at 10.10.52 PM
    Advertisement**
  • Advertisement**
    Advertisement**
  • swadeshi Restaurant add
    Advertisement**
  • daksha
    **Advertisement
  • banner

नो एंट्री में घुसने वाले ट्रकों का रफ्तार तेज होता है । सड़क पर चलने वाले यात्रियों और छोटे वाहनों को अक्सर खतरा बना रहता है । बाईक सवार और ऑटो चालक प्रायः दुर्घटना का शिकार बनते हैं ।

वायु प्रदूषण

सासाराम शहर वायु प्रदूषण के मामले में बिहार के टॉप शहरो में शामिल है । पीछले महीने आई एयर क्वालिटी इंडेक्स रिपोर्ट के अनुसार बिहार के स्वार्धिक प्रदूषित शहर इस प्रकार हैं :- बक्सर  : 456, मुंगेर : 444, छपरा : 412, सिवान : 401, मुजफ्फरपुर : 401, सासाराम : 395, गया : 383 ,दरभंगा : 363 ,राजगीर : 355 , पटना : 351, बिहारशरीफ : 340 ,मोतिहारी : 318 ,बेतिया : 310 और आरा शहर : 302 एयर क्वालिटी इंडेक्स ।

सासाराम में ट्रक से होने वाला वायु प्रदूषण मेरे कैमरा में कैद हुआ
सासाराम में ट्रक से होने वाला वायु प्रदूषण मेरे कैमरा में कैद हुआ

ट्रक भारी वाहन है ,यह ज्यादा कार्बन उत्सर्जन करता है , इसलिए वायु प्रदुषण भी ज्यादा होता है । दिन भर ट्रकों के आवागमन से शहर का हवा जहर बन जाता है । इस प्रदूषित हवा में सांस लेने पर फेफड़ों की गंभीर बीमारियां होती है । सासाराम शहर में वायु प्रदुषण इतना अधिक है की अगर आप नहा धोकर घर से बाहर निकलेंगे तो आपका बाल और चेहरा धूल सटने से मिट्टी मिट्टी हो जाएगा ।

  • WhatsApp Image 2021 04 16 at 8.07.07 PM
    Advertisement**
  • Royal Crockery Sasaram
    Advertisement**
  • WhatsApp Image 2021 04 12 at 11.39.29 PM
    Advertisement**
  • WhatsApp Image 2021 03 06 at 10.10.52 PM
    Advertisement**
  • Advertisement**
    Advertisement**
  • swadeshi Restaurant add
    Advertisement**
  • daksha
    **Advertisement
  • banner

यहां की सड़कों पर आप खुलायाम धूल उड़ते हुए देख सकते हैं । अन्य शहरों में प्रायः ऐसा उन इलाकों में देखने को मिलता है जहां कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा होता है । लेकिन , यहां आपको पूरा शहर में ऐसा दृश्य देखने को मिलेगा ।

ध्वनि प्रदुषण

सासाराम शहर पुराना शहर है । इस शहर की लाईफ लाइन कही जाने वाली जीटी रोड शहर के बीचों बीच जीटी रोड पर ट्रकों का हॉर्न पैदल यात्रियों को परेशान करता है । सासाराम शहर में अधिकांस सरकारी कार्यालय जीटी रोड के किनारे ही मौजूद हैं, इसलिए ट्रकों के आवागम से इन कार्यालयों के कर्मचारियों का कार्य भी प्रभावित होता है ।

हमेशा दुर्घटनाओं का डर

सासाराम शहर का जनसंख्या घनत्व उपलब्ध जमीन के मुकाबले काफी अधिक है । यहां की सड़के और गलियां संकरी हैं । शहर के नेताओं और अधिकारियों ने कभी भी प्लानिंग और शहर के फैलाव पर ध्यान नहीं दिया , जिसके कारण यहां के लोगों को दैनिक कार्य के लिए जीटी रोड के अलावा अन्य कोई वैकल्पिक मार्ग उपलब्ध नहीं है ।

सासाराम शहर में आस पास के गांवो और छोटे शहरों से लोग बाजार करने आते हैं । जीटी रोड पर पैदल यात्रियों और छोटे वाहनों की संख्या अधिक होती है । ट्रकों के आवागम से बराबर दुघर्टना का खतरा बना रहता है और इस डर के पीछे ठोस वजह भी है ,अक्सर दुर्घटनाओं की खबरें आती रहती हैं । कभी कोई ट्रक वाला किसी ऑटो वाले को ठोक देता है तो कभी बाइक वाले को ।

दिन के समय भी नो एंट्री में ट्रकों की एंट्री
दिन के समय भी नो एंट्री में ट्रकों की एंट्री

कई बार सासाराम शहर में अनियंत्रित ट्रकों ने रोड किनारे बैठे ठेला खोमचा वालों को भी अपने चपेट में ले लिया है । गौरक्षणी ओवर ब्रिज के नीचे की घटना कोई कैसे भुल सकता है , जब एक डंफर ने कई लोगों को एक ही बार में कुचल दिया था । जिसके बाद अक्रोशित जनता ने कई ट्रकों को आग के हवाले कर दिया था । दंगा जैसा माहौल बन गया था ।

Subscribe to our newsletter

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

Sasaram Ki Galiyan
Sasaram Ki Galiyanhttps://www.sasaramkigaliyan.com
Sasaram Ki Galiyan is a Sasaram dedicated Digital Media Portal which brings you the latest updates from across Sasaram,Bihar and India.
- Advertisment -spot_img

Most Popular

error: Content is protected !!